एशियन गेम 2018: स्वप्ना बर्मन ने गोल्ड मेडल जीतकर रक्षा इतिहास, 10 लाख मिला इनाम

जकार्ता में चल रहे एशियन गेम्स में एथलीट स्वप्ना बर्मन ने स्वर्ण जीतकर किया भारत देश का नाम रोशन

0
71

 

भारत देश के लिए शान तथा गौरवशाली बेटी बनी स्वप्ना बर्मन, उन्होंने एशियाई खेल में देश के लिए हेप्टाथलन इवेंट में स्वर्ण मेडल जीता है | सपना की कड़ी मेहनत,  लगान तथा हौसले में उनको इस मुकाम पर पहुंचाया है इस पर स्वप्ना को राज्य सरकार ने 10  लाख रुपए का का इनाम तथा सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है पुरस्कार में दी गई धन राशि से भले ही कम हो लेकिन स्वप्ना गौरवान्वित महसूस करती हैं|

 

स्वप्ना देश के पश्चिम बंगाल राज्य के जलपाईगुड़ी शहर की रहने वाली हैं वह है एक बेहद गरीब परिवार की बेटी हैं वह केवल 21 वर्ष की है स्वप्ना की माता एक हाउसवाइफ हैं तथा पिताजी रिक्शा चलाते हैं | वह किसी तरह से घर का भरण पोषण करते हैं स्वप्ना ने घर की गरीबी को कामयाबी का रोड़ा नहीं बनाया|

स्वप्ना मैं एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उनके जाने वाले दोस्तों को तथा आसपास वालों को बिल्कुल यकीन नहीं था वह एशियन गेम्स में जकार्ता जाकर कोई मेडल  हासिल कर पाएगी क्योंकि वह प्रेक्टिस के दौरान घायल हो गई थी इसी कारण उनकी काबिलियत पर उंगली उठने लगी थी फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और अपने आत्मविश्वास पर अडिग रही हैं|

स्वप्ना ने हेप्टाथलन  में प्रथम स्थान  हासिल किया

बता दें हेप्टाथलन में कुल 7 स्टेज होती हैं इन सभी स्टेजो एथलीट को पार्टिसिपेट करना पड़ता है|

आइए जानते हैं हेप्टाथलन के 7 स्टेजो बारे में-

  1. 100 मीटर हाई-स्पीड की दौड़ होती है|
  2. हाई- स्पीड जंप
  3. शॉट पुट
  4. 200 मीटर की दौड़
  5. लॉन्ग जंप (लंबी कूद )
  6. जेवलिन थ्रो (गोला फेंक)
  7. 800 मीटर हाई स्पीड  लंबी दौड़

किसी भी एथलीट को इन सभी खेलों में उसके प्रदर्शन के आधार पर अंक मिलते हैं इन सभी खेलों में स्वप्ना ने शानदार 6023 अंक पाकर प्रथम स्थान प्राप्त किया है वह केवल अपने अथक परिश्रम से ना सिर्फ अपने लिए बल्कि देश के लिए भी गौरव की मशाल बनी |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here