जानिए देवउठनी की एकादशी पर करें भगवान विष्णु को प्रसन्न

0
302

देव उठनी का त्यौहार 19 नवंबर 2018 दिन सोमवार को है. देव उठनी का त्यौहार कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष में एकादशी के दिन मनाया जाता है हिन्दू धर्म ग्रंथो में कार्तिक महीने की एकादशी की अत्यंत विशेष महिमा का गुणगान है । इसे और देव उथान ग्यारस एवं प्रबोधिनी एकादशी के नाम से भी जानते है । इस दिन से मांगलिक कार्यो की शुरुआत होती है एवं शादी विवाह जैसे कार्य शुभ कार्य शुरू हो जाते है । इस दिन भगवान विष्णु काले रूप शालीग्राम और तुलसी जी की शादी करवाई जाती है। ऐसा मानना है कि इसी दिन भगवान विष्णु अपनी नींद का त्याग करते है । एवं कुछ लोगो का मानना कि भगवान श्री हरि राजा बलि के पाताल लोक से चार महीने तक आराम करके वापिस आये थे।

देव उठनी करे भगवान विष्णु और लक्ष्मी रूपी तुलसी को प्रसन्न

आज के दिन सुबह नहाकर सूर्य भगवान को जल से अर्ध्य करना चाहिए एवं भगवान विष्णु को पूजा के दौरान तुलसी जी की माला जरुर चढ़ाये यह विष्णु जी को अति प्रसन्न करता है । जो कोई भी भगवान विष्णु की पूजा में कदंब के फूल चढ़ाता है , उसकी भगवान यमराज के कष्टों से बचाते है ।

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने जालंधर नाम के राक्षस का वध किया था वह राक्षस तुलसी का पति था तुलसी का पुराना नाम वृंदा है वृंदा को जब इस बात का पता लगा कि उन्होंने उनके पति का वध किया है तो उन्होंने भगवान विष्णु को पत्थर होने का अभिशाप दे दिया | देवताओं द्वारा किसी तरह तुलसी जी को अपना अभिशाप वापस लेने की विनती की गई तो उन्होंने अपना अभिशाप वापस ले लिया | भगवान विष्णु ने तुलसी को अगले जन्म में उनसे शादी करने का वचन दिया |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here